Zeher Song Lyrics (Kaam Bhaari) – Download Free Lyrics PDF & Ringtone Here

Zeher Lyrics Song is Sung by Kaam Bhaari. song marks Ranveer Singh’s record label IncInk’s first release. The song is written and performed by the little dynamite Kaam Bhaari. The music video is true to “Inclusive. Independent” which is the soul of #IncInk – Ranveer’s passion project. Here One can find Zeher Song Lyrics Pdf, Zeher Song Lyrics in Hindi & English, Zeher Song Ringtone, Zeher Rap Song Download, Rap Zeher Song Mp3 Download. Get Zeher song lyrics here Below.

Zeher Song Mobile HD Wall Paper Free Download

Zeher Song Information:

Singer Kaam Bhaari
Lyricist Kaam Bhaari
Music Shikhar Manchanda
Director Navzar Eranee
Music Label IncInk Records LLP

[vdgk_video_sticky videotype=”youtube” src=”https://youtu.be/_hQ-l6qQEU0″ height=”295″ width=”525″]

Zeher Song Lyrics By Kaam Bhaari:

Aur main ghutne par
Dua mein khushi bhejun
Tujhse tera dukh lekar
Ye kashmakash ki
Ye kashmakash ki rush mein
Jeene ke main dhoondhu nuskhe
Na bas mein mere
Ab main bandagi ke dhoondhu chaske
Samaan to laapata hai
Meri isme kya khata hai?
Kama ke main jama ke deta dil se, ye vafa hai
Dhamake kar doon tere pe beta mard hoon main
Par vata, teri maan ke pag pe sar doon mainVishay hai ye vish ka
Ab zinda kal mar ja
Sar chadh jayega jab tab ghar ja
Tu lad ja (ya mar ja)
Dassne vaale laakh naag
Kuch to apne saath saath hain
Raat raat mein jo kaate tujhko

Vishay hai ye vish ka
Ab zinda kal mar ja
Sar chadh jayega jab tab ghar ja
Tu lad ja (ya mar ja)
Dassne vaale laakh naag
Kuch to apne saath saath hain
Raat raat mein jo kaaten tujhko
Tere man ke saanp hai
Tu paapon mein
Kisi na kisi ke shraap mein
Bahot taakat hai
Par apane karm kabhi galat nahin
Dimaag thoda sataka hai
Dharm kabhi galat nahin
Insaan kidhar sachcha hai?
Jalan

Bhai ko bhai se psycho hum hain maanate
Phir kaay ko hum na jaante? kyun?
Tera maalik mera maalik, ek hai
Tu la kaalikh khud ke chehare pe ponchh de
Soch ke, zeher si ye baatein
Ye laaten, ye kha ke, maza le ye kick hai
Ye vo jo bad trip hai, saza degi
Kuch meri raza leke baithe hain mehfil mein
Dam le aur bak de jo hai dil mein kah bhi de

Vishay hai ye vish ka
Ab zinda kal mar ja
Sar chadh jayega jab tab ghar ja
Tu lad ja (ya mar ja)
Dassne vaale laakh naag
Kuch to apne saath saath hain
Raat raat mein jo kaate tujhko

101
Main filmein banaane mein maahir sa tha
Aur kill mein villain kar ke zaahir sa tha
Logon main, idhar kuaa udhar khaai hai
Dasste se shabd, kaise fasste dekh bhai hain
Tu mujhko kill kar ya ban mera dilabar
Ai sapne mere, mere apno ka tu bill bhar
Samandar mein naav meri chal padi
Bhookhe ko bhookh lagi
Sooraj aaya dhoop lagi
Kuchh to kar

Sookhe ko paani ki pyaas lagi, saans dabi
Meri bole uth ke chal
Toot ke bal chakanaachoor
Sitaare banana chaahen sab
Hataash hain, niraash hain
Koi rab se bole, kuchh bhi na to mere paas hai
Koi jag se bole kab se kab tak ham se ragbat
Koi daakh ras maange fir bhi milata sharabat
Yahaan pe aahaten hain
Raahat hai na mili rooh ko
Ye dil mein pyaar hai par
Chaahat hai na mili tumako
Tu mera dil le, mehafil le, ye feel le
Ye nagri meri, dagri meri, tu chill le

(Raat raat mein jo kaaten tujhko)

Vishay hai ye vish ka
Ab zinda kal mar ja
Sar chadh jaega jab tab ghar ja
Too lad ja ya mar ja
Dassne vaale laakh naag
Kuch to apane saath saath hain
(Raat raat mein jo kaaten tujhko)

Main shoonya tha
Kal ko aaj duniya ka
Paapi kaam na kie kabhi, kadaapi
Chhaati chaudi kar ke ladate the
Hum to karte the jo karana tha
Karm ka, khaaya apane phal ka hi nivaala
Aur vataaya sabko chalta banaaya
Jo the khote log chhote soch ke
Sab de hum unhin ko
Jo bhi sacche lagte soch ke
Rakhte hain hum unhi ko jinko chaahe fauj mein
Rakt kam hai, shabd bam hai, foote to kshay hai

Vijay hai
Vijay hai hamaari hamesha
Vijay hai hamaari hamesha
Vijay hai hamaari hamesha
Peace!


Zeher Song Lyrics in Hindi By Kaam Bhaari:

और मैं घुटने पर, दुआ में ख़ुशी भेजूं
तुझसे तेरा दुख लेकर
ये कश्मकश की..
ये कश्मकश की rush में जीने के मैं ढूंढू नुस्खे
ना बस में मेरे अब मैं बंदगी के ढूंढू चस्के
समां तो लापता है! मेरी इसमें क्या खता है?
कमा के मैं जमा के देता दिल से, ये वफ़ा है!
धमाके कर दूं तेरे घर पे बेटा मर्द हूं मैं!
पर वटा, तेरी मां के पग पे सर दूं मैं!

[Hook: Kaam Bhaari]
विषय है ये विष का, अब ज़िंदा कल मर जा
सर चढ़ जाएगा जब तब घर जा
तू लड़ जा या मर जा
डसने वाले लाख नाग कुछ तो अपने साथ साथ हैं
रात रात में जो काटें तुझको..

[Verse 1: Kaam Bhaari]
विषय है ये विष का, अब ज़िंदा कल मर जा
सर चढ़ जाएगा जब तब घर जा
तू लड़ जा या मर जा!
डसने वाले लाख नाग कुछ तो अपने साथ साथ हैं
रात रात में जो काटें तुझको, तेरे मन के सांप हैं
तू पापों में, किसी न किसी के श्रापों में
बहोत ताकत है!
पर अपने कर्म कभी गलत नहीं, दिमाग थोड़ा सटका है!
धर्म कभी गलत नहीं, इंसान किधर सच्चा है?
जलन!
भाई को भाई से सांई को (psycho) हम हैं मानते
फिर काय को हम ना जानते? क्यूं?
तेरा मालिक मेरा मालिक, एक है!
तू ला कालिख ख़ुद के चेहरे पे पोंछ दे..
सोच के, ज़हर सी ये बातें
ये लातें, ये खा के, मज़ा ले ये किक है
ये वो जो bad trip है! सज़ा देगी!
कुछ मेरी रज़ा लेके बैठे हैं महफ़िल में
दम ले और बक दे जो है दिल में कह भी दे!

[Hook: Kaam Bhaari]
विषय है ये विष का, अब ज़िंदा कल मर जा
सर चढ़ जाएगा जब तब घर जा
तू लड़ जा या मर जा!
डसने वाले लाख नाग कुछ तो अपने साथ साथ हैं!
रात रात में जो काटें तुझको..

[Verse 2: Kaam Bhaari]
१०१ (101)
मैं फ़िल्में बनाने में माहिर सा था!
और kill में villain कर के ज़ाहिर सा था!
लोगों में, इधर कुंआ उछर खाई है
डसते से शब्द, कैसे फ़सते देख भाई हैं!
तू मुझको kill कर या बन मेरा दिलबर
ऐ सपने मेरे, मेरे अपनों का तू bill भर
समंदर में नाव मेरी चल पड़ी
भूखे को भूख लगी, सूरज आया धूप लगी
कुछ तो कर!
सूखे को पानी की प्यास लगी, सांस दबी
मेरी बोले उठ के चल, टूट के बल चकनाचूर!
सितारे बनना चाहें सब हताश हैं, निराश हैं!
कोई रब से बोले, कुछ भी ना तो मेरे पास है!
कोई जग से बोले कब से कब तक हम से रगबत?
कोई दाख रस मांगे फ़िर भी मिलता शरबत!
यहां पे आहटें हैं, राहत है ना मिली रूह को
ये दिल में प्यार है पर, चाहत है ना मिली तुमको!
तू मेरा दिल ले, महफ़िल ले, ये feel ले!
ये नगरी मेरी, डगरी मेरी, तू chill ले!

(रात रात में जो काटें तुझको)

[Hook: Kaam Bhaari]
विषय है ये विष का, अब ज़िंदा कल मर जा
सर चढ़ जाएगा जब तब घर जा
तू लड़ जा या मर जा!
डसने वाले लाख नाग कुछ तो अपने साथ साथ हैं!
रात रात में जो काटें तुझको..

[Verse 3: Kaam Bhaari]
मैं शून्य था!
कल को आज दुनिया का!
पापी काम ना किए कभी, कदापि
छाती चौड़ी कर के लड़ते थे
हम तो करते थे जो करना था!
कर्म का, खाया अपने फल का ही निवाला
और वटाया सबको!
चलता बनाया!
जो थे खोटे लोग छोटे सोच के
सब दे हम उन्हीं को जो भी सच्चे लगते सोच के!
रखते हैं हम उन्हीं को जिनको चाहें फौज में
रक्त कम हैं, शब्द बम हैं, फ़ूटे तो क्षय है!

[Outro: Kaam Bhaari]
विजय है
विजय है हमारी हमेशा!
विजय है हमारी हमेशा!
विजय है हमारी हमेशा!
Peace!

FOR LATEST HINDI SONG LYRICS CLICK HERE.


Download Zeher Mp3 Song & Ringtones For Free:


Note: If you find any mistakes in the lyrics, Please let us know below comment section. We will very thankful to you guys. Do you believe ‘Sharing is Caring’? If you Believe than please share these lyrics with your friends, family members, and also with your loved ones so they can also enjoy it.

Leave a Reply

Your email address will not be published.